मुसलमान हे हमे पढने के बाद नौकरी कौन देगा ?

By / 3 years ago / EDUCATION, INDIA, LATEST NEWS / 1 Comment
मुसलमान हे हमे पढने के बाद नौकरी कौन देगा ?
जिशान आलम मुज्ज़फ्फर् नगर 

मुज्ज़फ्फर् नगर : दोस्तों तालीम एक ऐसी चीज है जो ना तो आप किसी से खरीद सकते है ना ही चुरा सकते हो तालीम एक ऐसी चीज है जो हर किसी के पास नही होती किसी के पास पैसो को लेकर तो किसी की मजबूरी लेकिन हमे अपनी मजबूरी के साथ साथ अपने बच्चो के भविष्य का भी ध्यान रखना चाहिए |

advertise-here300x300

अगर आप के पास प्राईवेट स्कूल मे पढाने के लिए पैसे नही है तो अपने बच्चो को सरकारी स्कूल मे भेजो | मुस्लिम समाज के अन्दर अगर 50% बच्चे स्कूल मे पढते वे 8 या 10 तक अच्छी तरह से पढते हे बाद मे 25%बच्चे सोचते हे की हम मुसलमान हे हमे नौकरी कौन देगा ओर 25% बच्चो के मा बाप पैसे कमाने के लिए कहते हैं|

और  पैसे कमाने के लिए छोड देते है एग्ज़ाम के वक्त अगर पेपर 50 नम्बर का हे तो उसे आप अच्छे से कर के आए मे तो ऐसा कहूगा की 50 नम्बर के बजाय 60 नम्बर का पेपर कर के लौटे अगर आपकी तरफ से कोई कमी नही हे तो सामने वाला खुद झुक जाएगा |



आपको काम देना ही होगा इस गलत फहमी मे मत रहीए नौकरी नही मिलेगी मे भी आपकी तरह ये गलत सोच अपने मन मे रखता था लेकिन मे गलत था अब मेने भी फिर से पढाई शुरू कर दी ओर दोस्तो हमे कोशिश नही  ठानना है फिर देखो सच्ची लगन से आपकी मेहनत जरूर रंग लाएगी

इसलिए ही तो मे कहता हू हमने ठाना है मन्दिर मे गीता हो चाहे मस्जिद मे हो कुरान सब के अन्दर लिखा है बस एक ही नाम राम बोलो चाहे बोलो अल्लाह | यहा कोई किसी का नही है मेरे भाई वोही भरता है सबका पल्ला



One Comment

  • Anis Ahmad07. May, 2017

    Do we get education only to seek employment?
    After getting education you can start your own business where you can create employment for others. Even small business with little investment you will be able to do in a better way if you are educated.